.

Thursday, March 23, 2017

Shayari | Infinite Love


बंजर पड़ी जमीं में उम्मीदों के बीज़ बौता है,
वो जो आँखों में मखमली ख़्वाब लिये काँटों पे सोता है ♥♥


कभी तुम्हें देखकर एक शायरी लिखी थी,
तुम तो पूरी डायरी ही बन गयी ♥♥


रुक रुक कर दिल में जो ये दर्द उठता है,
कोई तो है जो मुझे छूकर गुज़रता है ♥♥


दिल हर्फ़ हर्फ़ जैसे तुम्हें ही लिखता हो,
मैं कागज़ हूँ और तुम उस पर लिखी कविता हो ♥♥


Monday, March 20, 2017

Mukammal | Infinite Love


तन्हाइयों के सायों में जब ये शाम ढलती है,
तुझे याद कर ये अधूरी ज़िंदगी मुकम्मल सी लगती है ♥♥


Saturday, March 18, 2017

Chal Kahin | Infinite Love


चल फिर कहीं दूर चलते हैं,
हकीकत और ख़्वाब के बीच जो फासला है वहाँ मिलते है,

खिड़कियों से ताकता है जहाँ चाँद रात भर,
उस ठंडी रात की तन्हाई में जलते है ♥♥

साँसों से जो टकराती है खुशबूं बार बार,
रूह तक पहुँचती उन साँसों में घुलते है,

Tuesday, March 14, 2017

Khaamoshiyaan | Hopeless


मेरी धड़कनें भी तुझसे ये जवाब चाहती है,
वो जो बात तेरे होंठो पे आकर वापस लौट जाती है ♥♥


मर्ज़ इश्क़ का ऐसा कि खुद को भी भूला बैठे,
जो मौजूद ही नहीं उसकी मौजूदगी से दिल लगा बैठे ♥♥


समझते वो भी हैं मेरी खामोशियों का सबब,
शायद वो भी इश्क़ में तड़प कर बैठे हैं ♥♥