.

Sunday, August 28, 2016

Ghar | Hopeless


तेरी यादों में इतना खोये हैं,
कि कुछ और ना सोच सके,

तेरे दिल में कुछ यूँ बस गये हैं,
कि वापस अपने घर ना लौट सके ♥♥


Wednesday, August 24, 2016

जुल्फ़ें | Infinite Love


हवायें भी थम सी गयी जब उसने जुल्फ़ें संवारी,
नज़रे उसपे कुछ यूँ टिकी जैसे एक लम्हे में ज़िन्दगी गुजारी ♥♥


Monday, August 22, 2016

महोब्बत | Hopeless


ढूँढा बहुत मगर कहीं महोब्बत ना मिली,
उम्मीदों की रोशनी में सिर्फ ज़िन्दगी जली ♥♥


Sunday, August 21, 2016

Khwaab | Hopeless


ज़ख्मों पे नमक ना लगाये कोई,
मुझे मुझ तक पहुँचाये कोई,

टूट चूका हूँ टूटते ख्वाबों को देखकर,
मुझे अब नींद से जगायें कोई ♥♥


Indian Bloggers