.

Sunday, January 15, 2017

फ़ितूर-ए-इश्क़ | Infinite Love


दिल से जो फ़ितूर-ए-इश्क़ नहीं जाता,
उन खिड़कियों से जो अब चाँद नज़र नहीं आता,

भीगती है पलकें दर्द की बारिशों में,
एक तूफ़ान जो मेरे अंदर है क्यों गुज़र नहीं जाता ♥♥


Thursday, January 12, 2017

Parwaaz | Infinite Love


रुकता कहीं नहीं जब ये परवाज़ लेता है,
ये दिल परिंदा तेरी चौखट पे रूककर ही सांस लेता है 
♥♥


Indian Bloggers

Tuesday, January 10, 2017

Beghar | Hopeless


कोई आशिक़ तो कोई दीवाना कहता है,
मेरे इस बेघर दिल में किसी का दिल रहता है ♥♥


दिल को कुरेदते ज़ख्मो को कहीं हवा ना मिली,
मर्ज़ इश्क़ का ऐसा कि कहीं दवा ना मिली ♥♥


Sunday, January 8, 2017

Sajda | Eternal Love


मेरे ख़्वाबों का काफिला तेरी चौखट पे रुक गया,
जैसे सजदे में कोई सिर दुआ में झुक गया ♥♥