.

Thursday, April 17, 2014

Dil Kho Chuka Hai

♥♥ एक हादसा जो हो चूका है,
गुनाह इश्क का जो दिल कर चूका है,
ऐ खुदा अब तू चाहे लाख रहम-ओकरम कर,
जो शख्स साँसों से ज्यादा जरुरी था,
वो तो अब दिल खो चूका है ♥♥

Poetry Written by - MS Mahawar

Monday, April 14, 2014

हर राह पर इश्क के

♥♥ वफ़ा ढूँढने चले थे,
हर राह पर इश्क के खरीददार निकले,
जिसे हम प्यार की मूरत समझ बैठे थे,
वो बाज़ार-ए-इश्क के सबसे बड़े ज़मींदार निकले ♥♥

Poetry Written By - MS Mahawar

Friday, April 11, 2014

Dil Ko Karaar

♥♥ वो नज़रे झुकाये खड़ी थी,
कैसे देखते इश्क तो उसकी आँखों में था,
लब भी कुछ कह ना सके,
मेरा हाथ जो उनके हाथों में था ♥♥
♥♥ कैसे चुरा लेता मैं नींद उसकी,
मेरा हर ख्वाब जो उसकी नींदों में था,
जो सुकून ज़िन्दगी ना दे सकी,
वो मज़ा उसकी यादों में काटी तनहा रातों में था...

Wednesday, April 9, 2014

Main Uske Ishq Mein

♥♥ ऐ खुदा मेरी नींद मुझसे मत छीन की,
मेरा महबूब मुझसे ख़्वाबों में तो मिले,
अगर कर सकता है कुछ तो मुझपे इतना करम कर ♥♥
♥♥ मैं उसके इश्क में इतना तड़पू की,
वो मेरी साँसे रोक ले और मुझे मौत भी ना मिले ♥♥