.

Tuesday, December 18, 2012

Close to You





आँखे जो बंद कर लूँ ,
तो मैं तेरी बाँहों में हूँ ,
तुझको ओढ़ लूँ , तुझ में सिमटू ,
सांसे जो लूँ तो तेरी पनाहों में हूँ ,
हवा जो चले, तेरी जुल्फे जो उड़े,
तेरी उन उडती हुयी जुल्फों से,
निकली फिज़ाओ में मैं हूँ ,
सपनो में जी लूँ ,तुझे बाँहों में ले लूँ ,
मेरे लबों से तेरे लबों को छू लूँ,
और तेरी हर घुलती साँस को पी लूँ ,
आँखे जो बंद कर लूँ.....

तो तेरी यादों की मंद हवाओ में मैं  हूँ ,  
तेरी आँखों से काजल चुरा लूँ ,
तेरे दुपट्टे को सिर से हटा दूँ  ,
तेरे माथे को चूम लूँ और ये दूरियां मिटा दूँ ,
तुझे बाँहों में भर लूँ और,
ये चाँद पूनम का छिपा दूँ ,
तेरी सांसो से मेरी सांसो को जोड़कर,
धड़कन को धीमा कर,
इस तडपते दिल को सुला दूँ ,
तेरी जिंदगी को खुशियों की रौशनी से सजा दूँ ,
तेरे लबों पे हमेशा खिलती हुयी हंसी रहे,
तेरी हंसी के पीछे छिपी हुयी,
उन दुआओं में मैं हूँ !


Written By : MS Mahawar

KEYWORD TAG: Love Poems, Love Sad Poems, Sad Poems on Love, Hindi Love Poems, Short Love Poems, Innocent Love, An Innocent Love, Innocent Love Drama,Satire-Vicious acts of Society

No comments:

Post a Comment