.

Saturday, December 8, 2012

I Will Come !





उम्मीद के घोड़े पर सवार हूँ ,
हाथ में खुदा पर विश्वास की तलवार लिए,
मंजिल की चाह में आगे बढ़ता हूँ मैं ,
इस हाँ और ना की उलझन में,
हर रोज़ हकीकत की ठोकरे खाता हुआ,
गिरता - संभलता हूँ मैं !

 Written By : MS Mahawar

No comments:

Post a Comment