.

Saturday, April 5, 2014

Wo Kya Jaane Firaq-ae-Mahobbat

वो क्या जाने फ़िराक़-ए-महोब्बत,
जो हँस पड़े मेरी महोब्बत का अंजाम जानकर,
हमने भी आंसू बहाकर लौटा दिया उन्हें वो प्यार,
हम पर ये उनका एहसान मानकर 

6 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.