.

Sunday, July 6, 2014

मेरी चाँदनी | Sad Shayari

♥♥ जैसे चाँद भी कभी बादलों में छिप जाता है,
पर कभी ना कभी तो नज़र आता है,
मेरी चाँदनी भी कहीं दूर है मुझसे,
मगर जो दिल को सुकून दे,
उसका मुस्कुराहता हुआ चेहरा हर पल नज़र आता है ♥♥

1 comment:

  1. Sachhi Dosti Bezubaan Hoti Hai,
    Ye To Aankhon Se Bayaan Hoti Hai,
    Dosti Mein Kabhi Dard Mile To Kya Gum,
    Dard Me Hi To Apno Aur Parayo Ki Pehchan Hoti Hai.

    ReplyDelete

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.