.

Saturday, October 11, 2014

तुम जो यूँ अपनी जुल्फें संवारती हो | Love Poems


तुम जो यूँ बार-बार अपनी जुल्फें संवारती हो,
क्यों मुझे अपनी गुस्ताख नज़रों से मारती हो ♥♥

तुम जानती हो अब हम दो किनारे किसी दरिया के हैं,
मेरे दिल के जख्म अभी भरे नहीं है,
क्यों तुम उन्हें छूकर फिर उभारती हो ♥♥

मेरी किस्मत में अश्क ही लिखे है शायद,
क्यों मुझे तुम यूँ पुकारती हो ♥♥


Keyword Tag - Loneliness, Best Hindi Poems, Lost Soul, Sad Love Poems, Romance, Anushka Sharma, Lost Heart, I Miss You

4 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.