.

Thursday, October 16, 2014

Mahobbat hi Zindagi Hai! | Sad Shayari


कोई देख ना पाया मेरी आँखों में उन आंसुओ को,
मगर महोब्बत ने हर एक पल मेरे दिल को रुलाया है,
लोग कहते हैं की महोब्बत ही ज़िन्दगी है,
मैंने तो सबकुछ महोब्बत में ही गंवाया है


10 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.