Day: June 27, 2015

Intzaar | Hopeless

जिन्हें सालो से था इंतज़ार वो एक बूँद को तरस गये, बादल भी अपनी मनमानी में थे, कहीं ओर ही जाके बरस गये |

Read more