.

Friday, October 23, 2015

बेदर्द ज़िन्दगी | Hopeless


हर कोई तनहा यहाँ, यहाँ कोई ना किसी का हमदर्द है,
बेदर्द सी ज़िन्दगी थी और आज भी बेदर्द है |


12 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.