.

Saturday, October 31, 2015

तेरी तलाश में | Hopeless


कभी घर से जो मैं निकला था,
आज भी महोब्बत की तलाश में घूम रहा हूँ,

कल तक जो तुझे ढूँढ रहा था,
आज खुद को ढूँढ रहा हूँ |


4 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.