.

Monday, December 21, 2015

Sanam Re | Infinite Love


रास्ता तू ही और मंज़िल तू ही,
चाहे जितने भी चलूँ मैं कदम 
♥♥

तुझसे ही तो मुस्कुराहटें मेरी,
तुझ बिन ज़िन्दगी भी है सितम 
♥♥

जितनी भी महोब्बत करूँ मैं तुझसे,
उतनी ही है कम 
♥♥

हर लम्हा तुझे ही चाहूँ,
चाहे जितने भी लूँ मैं जन्म ♥♥

रब तू ही और दुआ तू ही,
तुझे और कितना मैं चाहूं सनम 
♥♥


4 comments:

  1. Auperb once again !!
    Har baar pehle se acha likhte dete h aap.... meri tareef b khatm ho gai h.... ;)
    Seriously it always makes me smile..

    ReplyDelete

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.