.

Thursday, January 21, 2016

जन्नत | Infinite love


आँखों से उतर कर तू मेरी धड़कन की आवाज़ बन गयी,
मेरी रूह से मिलकर तू मेरी हर सांस बन गयी |
♥♥

मेरी जुबां पे तू है और मन्नत भी तू है,
मेरा दर्द भी तू है और जन्नत भी तू है |
♥♥

वक़्त भी बदल गया और क़िस्मत भी बदल गयी,
तेरी महोब्बत ने जो छुआ मुझे, जिंदगी बदल गयी |
♥♥

आज फिर तेरी याद दिल से टकरा गयी,
ख्वाब में जो तेरी आहट सुनी, तो धड़कन घबरा गयी |
♥♥

तेरा इंतज़ार रहेगा तब तक,
जिस्म में मेरे जान है जब तक |
♥♥

तेरी हँसी के लिये जीयें हैं और तेरी हँसी के लिये ही मर जायेंगे,
थोड़ी सी जो बची है ज़िन्दगी वो भी तेरे नाम कर जायेंगे |
♥♥

Keyword Tags - Hindi Poems On Love, Hindi Poetry on love, Sad Shayari in Hindi, Hindi Romantic Poems, Hindi Sad Poetry

4 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.