.

Sunday, January 24, 2016

तेरा इंतज़ार | Infinite Love


वो छत पर अपनी जुल्फ़ें सुलझा रही थी,
और उसकी अदायें मुझे उसके ख्यालों में उलझा रही थी |
♥♥

कोशिशें बहुत की मगर तेरी यादें कभी कम ना हुई,
कोई दिन ऐसा ना होगा जब तेरी याद में आँखें नम ना हुई |
♥♥

बरसता हुआ पानी आग बुझा रहा था,
मगर दिल अंदर ही अंदर तेरी याद में जला रहा था |
♥♥

मरते दम तक तेरा इंतज़ार रहेगा,
मेरी धड़कनो को सुनकर देखना तू,
मर कर भी मुझमें जिन्दा तेरा प्यार रहेगा |
♥♥

तेरी हँसी को देखकर ही तो मेरे ग़म कम होंगे,
अब खुद से ना रूठना कभी तू,
क्योकि तुझे मनाने के लिये अब कभी हम ना होंगे |
♥♥


6 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.