.

Thursday, January 7, 2016

Ishq Ka Rang | Hopeless


इश्क का रंग जो उतरा,
लहू भी सफ़ेद हो गया,

कल जो तूफानों में भी खड़ा था,
वो आज टूटकर रेत हो गया |


8 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.