.

Thursday, March 24, 2016

Do Kinaare | Lovelorn


महोब्बत के रास्ते अक्सर लोग अकेले ही चलते हैं,
अब दो किनारे किसी नदियां के कहाँ मिलते हैं |


No comments:

Post a Comment