.

Thursday, April 21, 2016

ईमान | Faith


कोई खरीदता है खुशियाँ अपना पुराना सामान बेचकर,
और वो लाये हैं घर खुशियाँ अपना ईमान बेचकर |


2 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.