.

Tuesday, April 5, 2016

हुस्न-ए-इश्क़ | Infinite Love


गुनाह ये बार-बार वो हर रोज़ करता है,
हर शख़्स इश्क़ की चाह में हर रोज़ मरता है,

ना जख्मों से और ना वो मौत से डरता है,
जब हुस्न-ए-इश्क़ से यूँ पर्दा गिरता है ♥♥


2 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.