.

Sunday, August 28, 2016

Ghar | Hopeless


तेरी यादों में इतना खोये हैं,
कि कुछ और ना सोच सके,

तेरे दिल में कुछ यूँ बस गये हैं,
कि वापस अपने घर ना लौट सके ♥♥


4 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.