.

Wednesday, August 24, 2016

जुल्फ़ें | Infinite Love


हवायें भी थम सी गयी जब उसने जुल्फ़ें संवारी,
नज़रे उसपे कुछ यूँ टिकी जैसे एक लम्हे में ज़िन्दगी गुजारी ♥♥


No comments:

Post a Comment