.

Sunday, August 21, 2016

Khwaab | Hopeless


ज़ख्मों पे नमक ना लगाये कोई,
मुझे मुझ तक पहुँचाये कोई,

टूट चूका हूँ टूटते ख्वाबों को देखकर,
मुझे अब नींद से जगायें कोई ♥♥


Indian Bloggers

No comments:

Post a Comment