.

Friday, August 18, 2017

Dahleez | Hopeless


जब कभी तेरी यादों से बातें होती हैं,
रात की दहलीज़ पे बैठकर मेरी नींदे रोती हैं ♥♥


Tuesday, August 15, 2017

Dil Ki Sadaa | Hopeless


दिल की सदाओं से मुँह मोड़ लिया हमने,
धड़कनो से रिश्ता अब तोड़ दिया हमने,

पुकारने से भी ना अब लौटेंगे हम,
घर महोब्बत का अब छोड़ दिया हमने


ख़्याल की तस्वीर | Hindi Poetry


1) तुम जो यूँ दिन में भी चाँद सी खिलती हो,
क्या चेहरे पर अपने चाँदनी मलती हो
♥♥

2) अब समझा मैं तेरे गाल पे तिल का मतलब,
खुदा ने चाँद पे एक सितारा भी सज़ा रखा है
♥♥

3) बड़ी मुश्क़िल से धड़कनों को संभाला है,
कहीं तुम फिर से मुस्करा ना दो,
मेरे हसरतों को बड़ी मुश्क़िल से सुलाया है,
कहीं तुम्हारी पायल की खनक से उन्हें जगा ना दो
♥♥

4) जिसकी तलाश हर किसी को है,
तुम वो ऐतबार हो,
जिसकी ख़ुशबू से साँसे धूल जाये,
तुम वो गुलज़ार हो
♥♥

Sunday, August 13, 2017

WaQt | Homeless


घर से निकाला हुआ भी
वापस घर ही आयेगा,
जो दिल से निकाला गया,
वो किधर जायेगा ?
वक़्त का क्या है,
गुज़रता है गुज़र जायेगा |


Thursday, August 10, 2017

Khaamoshiyaan | Koi FARIYAD


मेरी ख़ामोशियाँ जो लबों तक ना सकी,
तुम चाहो तो उन्हें कायर नाम दे दो,

जो बात मैं तुमसे कह नहीं सका,
वो अब ज़माने से कहता हूँ,
तुम मुझे शायर नाम दे दो ♥♥


Wednesday, August 9, 2017

Koi Fariyad | TUM BIN


जिसे भूलना ही है,
उसे तू याद ना कर,

जिसे पाना मुमकिन नहीं,
तू उसकी फ़रियाद ना कर,

ऐ दिल मुश्किल है इश्क़ में जी पाना,
तू किसी से दिल लगाने की अब बात ना कर ♥♥


Monday, August 7, 2017

Rishta | Infinite Love


इसी वज़ह से तो मेरा रात से गहरा रिश्ता है,
कि चाँद हर रोज़ एक नए रंग में दिखता है ♥♥


Saturday, August 5, 2017

Dosti | Eternal Love


ये जो दोस्ती होती है ना,
इसका कद महोब्बत से बड़ा है,
ये वो ज़ज्बात है,
जिसकी उम्र महोब्बत से ज्यादा है,
जो टूट कर भी जुड़ जाये,
ये वो धागा है,
बहुत कुछ ख़ुदा से मांगने को,
हमने सिर्फ़ एक अच्छा दोस्त माँगा है ♥♥


Shayar | फितूर-ए-इश्क़


शायर होना भी एक ग़ुनाह है,
हमने महोब्बत को नहीं,
महोब्बत ने हमको चुना है ।


Friday, August 4, 2017

Julfen | InFinite LOVE


जब आईने के सामने वो जुल्फ़ें संवारने बैठ गयी,
मेरे सारी ख्वाहिशें उसकी जुल्फ़ों तले लेट गयी ♥♥


Thursday, August 3, 2017

Kalam | Infinite Love


कलम हाथ में लिए वो सुबह को शाम करता है,
कोई है जो आज भी हर एक लम्हें को तेरे नाम करता है ♥♥


Tuesday, August 1, 2017

Chhaanv | Infinite Love


मेरे ख़्यालों से मैंने तुम्हारी एक तस्वीर बुनी है,
मैंने महलों को छोड़कर तुम्हारी जुल्फ़ों की छांव चुनी है,

ये लफ्ज़ और जज़्बात ख़ामोश थे तुम बिन,
तुम्हें देखा तब मैंने अपनी धड़कनो की
पहली बार आवाज़ सुनी है ♥♥


Monday, July 31, 2017

Tere Siwaa | Infinite Love


1) ये बारिशें भी तुम्हारी याद सी हो गयी है,
या तो आती नहीं और आती है तो फिर रूकती नहीं ♥♥

2) ये आरज़ू नहीं कि मुझे मिल जाये तू,
मगर मेरी हर नज़र में नज़र आये तू ♥♥

3) ज़िंदगी को छुआ है मैंने तेरी जुल्फ़ें संवार कर,
आज घर लौटा हूँ मैं खुद को हार कर ♥♥

Sunday, July 30, 2017

Khaamoshiyaan | Hindi Poetry


ये जो ख़ामोशियों हैं ना
तुम्हारी आँखों में,
इन्हें लबों तक आने दो,

ये दर्द ज़िंदगी से कुछ छीन ना ले,
इसे यूँ ना ये लम्हें चुराने दो,

दिल जो चाहता है बारिशों में भीगना,
हर सांस को भीग जाने दो,

ये शाम ना होगी इतनी हसीं फिर,
इसे उदासियों में गुम ना हो जाने दो,

मन जो करता है उड़ने को,
उसे ख़्वाबों की डाल से सपने चुराने दो,

कुछ ख़्वाहिशें जो तैरती है दिल में तेरे,
उन्हें किनारों पे पहुँच जाने दो,

पकड़ के रखो इन साँसों को,
इन्हें यूँ ना डूब जाने दो,

ये ज़िंदगी फ़िर ना तुम्हे पुकारेगी,
इसे जीने के और बहाने दो,

वो दबी सी रूह जो झांकती है अंदर से,
उसे खुल के मुस्कुराने दो ♥♥


Saturday, July 29, 2017

Haar Kar | Infinite Love


ज़िंदगी को छुआ है मैंने तेरी जुल्फ़ें संवार कर,
आज घर लौटा हूँ मैं खुद को हार कर 
♥♥


Thursday, July 27, 2017

Kasoor | Infinite Love


क़सूर जुल्फ़ों का नहीं तेरी अदाओं का था,
असर काज़ल का नहीं तेरी निगाहों का था  ♥♥


Tuesday, July 25, 2017

Tera Aainaa | Eternal Love


तेरा आईना मेरी आँखें हैं,
तूने ठीक से ख़ुद को कभी देखा नहीं है ♥♥


Monday, July 24, 2017

Aadatein | Infinite Love


1) रुक रुक कर दिल में जो ये दर्द उठता है,
कोई तो है जो मुझे छूकर गुज़रता है ♥♥


2) तन्हाइयों के सायों में जब ये शाम ढलती है,
तुझे याद कर ये अधूरी ज़िंदगी मुकम्मल सी लगती है ♥♥


Sunday, July 23, 2017

Intzaar | AWARAPAN


1) मेरी धड़कनें भी तुझसे ये जवाब चाहती है,
वो जो बात तेरे होंठो पे आकर वापस लौट जाती है ♥♥


2) इंतज़ार रहता है दिल को तेरा चाँद की तरह,
वो जो एक याद घर देर से लौटती है ♥♥


Friday, July 21, 2017

Roshni | Hindi Quotes


जब दिल कभी तन्हाइयों के अंधेरों में खो जाता है,
तेरी यादों की रौशनी से थोड़ा सा उजाला हो जाता है ♥♥


Thursday, July 20, 2017

NaaKaafi | Infinite Love


तेरी निगाहों के ज़ाम पिला दे,
ये मयख़ाना मेरे लिये नाकाफ़ी है,

थोड़ी तेरी निगाहों से पी लूँ,
और थोड़ी अभी पैमाने में बाकी है  ♥♥


Wednesday, July 19, 2017

Tera Naam | Raabta


तेरी बाहों में मुझे कुछ इस तरह थाम ले,
कि मेरी धड़कनें हर घड़ी सिर्फ तेरा नाम ले ♥♥


Tuesday, July 18, 2017

Khwaahishen | Unrequited Love


मेरी ख़्वाहिशों को उम्मीदों के पर लग जाये,
मैं बदलूं आदतें अपनी और तुझे मेरी आदतें लग जाये ♥♥


Monday, July 17, 2017

Befikra | Hindi Poetry


शिकायतें ना रख तू दिल में,
जो पत्थर है वो कहाँ सुन पायेंगे,

तू हवा की तरह बेफिक्र बहता चल,
जो खुशबूं होंगे वो तुझमें सिमटते जाएंगे ♥♥


Sunday, July 16, 2017

Aadat | TUM BIN


कोई मुझे संभालो यारों कि मुझे आदत है बहकने की,
उसे खुशबूं की तलब है तो मुझे आदत है महकने की ♥♥


Sunday, June 18, 2017

Dil Ki Baat | Hindi Poetry


एक बात जो होंठों तक कभी आई नहीं,
वो यादें जो कभी मैंने दिल से मिटाई नहीं,

सारा ज़माना जानता है मेरे दर्द की कहानियां,
सिर्फ एक तू ही है जिसे मैंने दिल की बात बताई नहीं ♥♥


Tuesday, June 6, 2017

Dhoop Si | Infinite Love


तन्हाइयों के अंधेरों में,
तुम धूप सी निकलती हो,

तुम्हें छूकर पानी हो जाता हूँ,
जैसे तेरी साँसों से मेरी रूह पिघलती हो,

ढूँढता रहता है दिल तुझे हर जगह,
तुम हो कि सिर्फ शाम की उदासियों में मिलती हो ♥♥


Saturday, June 3, 2017

Teri Julf | Infinite Love


ज़िंदगी को छुआ है मैंने तेरी जुल्फ़ें संवार कर,
आज घर लौटा हूँ मैं खुद को हार कर ♥♥

Sunday, May 28, 2017

Nazar | Infinite Love


ये आरज़ू नहीं कि मुझे मिल जाये तू,
मगर मेरी हर नज़र में नज़र आये तू ♥♥


Saturday, May 20, 2017

Mitti | Infinite Love


मिट्टी से जो महक उठी बारिश में भीग जाने से,
आज फिर तुझे याद किया मैंने इक नए बहाने से ♥♥


Saturday, May 13, 2017

Nazaara | Afeemi Pyaar


रब से तुझे दुआ में मांग लूँ,
मुझे कोई टूटता सितारा मिल जाये,

लब कब से सवाल में है,
मुझे तेरी आँखों का इशारा मिल जाये,

जब आईने में तू सँवारे खुद को,
मुझे वो नज़ारा मिल जाये,

कहीं फिर टूट कर बिखर ना जाऊं,
मुझे तेरी बाहों का सहारा मिल जाये,

डूबा है दिल तेरी याद में कब से,
मुझे अब कोई किनारा मिल जाये ♥♥