.

Friday, March 31, 2017

Humsafar | Infinite Love


इस शब-ए-ग़म की अब सहर हो जाये,
मेरे सजदों में भी थोड़ा असर हो जाये,

मंज़िल कोई भी हो तू हमसफ़र हो जाये,
जो हर लम्हा पँहुचे मुझ तक तू वो नज़र हो जाये ♥♥



Indian Bloggers

No comments:

Post a Comment