.

Monday, March 20, 2017

Mukammal | Infinite Love


तन्हाइयों के सायों में जब ये शाम ढलती है,
तुझे याद कर ये अधूरी ज़िंदगी मुकम्मल सी लगती है ♥♥


No comments:

Post a Comment