.

Friday, April 14, 2017

Dhool | Hopeless


दिल पर यादों की धूल जमी है,
इस हँसी में भी थोड़ी सी कमी है,
फिर कोई तूफ़ान गुज़रने को है,
धड़कने आज फिर सहमी है |


No comments:

Post a Comment