.

Sunday, July 16, 2017

Aadat | TUM BIN


कोई मुझे संभालो यारों कि मुझे आदत है बहकने की,
उसे खुशबूं की तलब है तो मुझे आदत है महकने की ♥♥


No comments:

Post a Comment