.

Saturday, July 29, 2017

Haar Kar | Infinite Love


ज़िंदगी को छुआ है मैंने तेरी जुल्फ़ें संवार कर,
आज घर लौटा हूँ मैं खुद को हार कर 
♥♥


No comments:

Post a Comment