.

Monday, July 31, 2017

Tere Siwaa | Infinite Love


1) ये बारिशें भी तुम्हारी याद सी हो गयी है,
या तो आती नहीं और आती है तो फिर रूकती नहीं ♥♥

2) ये आरज़ू नहीं कि मुझे मिल जाये तू,
मगर मेरी हर नज़र में नज़र आये तू ♥♥

3) ज़िंदगी को छुआ है मैंने तेरी जुल्फ़ें संवार कर,
आज घर लौटा हूँ मैं खुद को हार कर ♥♥

4) तेरे सिवा ज़िंदगी से कोई ख़्वाहिश नहीं है,
अगर तू नहीं तो जीने की कोई गुंजाइश नहीं है ♥♥

5) तुझे इत्र बनाकर बोतल में बंद कर लूँ,
तेरी यादें जब सताये तो तुझे थोड़ा साँसों में भर लूँ ♥♥

6) तेरी निगाहों के ज़ाम पिला दे,
ये मयख़ाना मेरे लिये नाकाफ़ी है,

थोड़ी तेरी निगाहों से पी लूँ,
और थोड़ी अभी पैमाने में बाकी है ♥♥

7) तुम जो यूँ बारिशों में बेधड़क भीगती हो,
मेरे दिल की ज़मीं को तुम अपनी अदाओं से सिंचती हो ♥♥

8) तेरी बाहों में मुझे कुछ इस तरह थाम ले,
कि मेरी धड़कनें हर घड़ी सिर्फ तेरा नाम ले ♥♥

9) कोई मुझे संभालो यारों कि मुझे आदत है बहकने की,
उसे खुशबूं की तलब है तो मुझे आदत है महकने की ♥♥

10) मेरी ख़्वाहिशों को उम्मीदों के पर लग जाये,
मैं बदलूं आदतें अपनी और तुझे मेरी आदतें लग जाये ♥♥


No comments:

Post a Comment