.

Friday, August 25, 2017

तेरी नफ़रतों | Hopeless


हर दर्द से गुज़र चुके,
अब बचा नहीं कुछ सहने को,

बहुत कुछ कहना है तुमसे,
मगर अब बचा ही नहीं कुछ कहने को,

तेरी नफ़रतों में भी जगह मिल जाये,
तो काफ़ी है मेरे लिए रहने को ।


Monday, August 21, 2017

Aadha Chaand | Hindi Poetry


आधा चाँद उसने अपनी जुल्फ़ों से ढक लिया,
और आधा मेरी हथेलियों पर रख दिया ♥♥


Friday, August 18, 2017

Dahleez | Hopeless


जब कभी तेरी यादों से बातें होती हैं,
रात की दहलीज़ पे बैठकर मेरी नींदे रोती हैं ♥♥


Tuesday, August 15, 2017

Dil Ki Sadaa | Hopeless


दिल की सदाओं से मुँह मोड़ लिया हमने,
धड़कनो से रिश्ता अब तोड़ दिया हमने,

पुकारने से भी ना अब लौटेंगे हम,
घर महोब्बत का अब छोड़ दिया हमने


ख़्याल की तस्वीर | Hindi Poetry


1) तुम जो यूँ दिन में भी चाँद सी खिलती हो,
क्या चेहरे पर अपने चाँदनी मलती हो
♥♥

2) अब समझा मैं तेरे गाल पे तिल का मतलब,
खुदा ने चाँद पे एक सितारा भी सज़ा रखा है
♥♥

3) बड़ी मुश्क़िल से धड़कनों को संभाला है,
कहीं तुम फिर से मुस्करा ना दो,
मेरे हसरतों को बड़ी मुश्क़िल से सुलाया है,
कहीं तुम्हारी पायल की खनक से उन्हें जगा ना दो
♥♥

4) जिसकी तलाश हर किसी को है,
तुम वो ऐतबार हो,
जिसकी ख़ुशबू से साँसे धूल जाये,
तुम वो गुलज़ार हो
♥♥

Sunday, August 13, 2017

WaQt | Homeless


घर से निकाला हुआ भी
वापस घर ही आयेगा,
जो दिल से निकाला गया,
वो किधर जायेगा ?
वक़्त का क्या है,
गुज़रता है गुज़र जायेगा |


Thursday, August 10, 2017

Khaamoshiyaan | Koi FARIYAD


मेरी ख़ामोशियाँ जो लबों तक ना सकी,
तुम चाहो तो उन्हें कायर नाम दे दो,

जो बात मैं तुमसे कह नहीं सका,
वो अब ज़माने से कहता हूँ,
तुम मुझे शायर नाम दे दो ♥♥


Wednesday, August 9, 2017

Koi Fariyad | TUM BIN


जिसे भूलना ही है,
उसे तू याद ना कर,

जिसे पाना मुमकिन नहीं,
तू उसकी फ़रियाद ना कर,

ऐ दिल मुश्किल है इश्क़ में जी पाना,
तू किसी से दिल लगाने की अब बात ना कर ♥♥


Monday, August 7, 2017

Rishta | Infinite Love


इसी वज़ह से तो मेरा रात से गहरा रिश्ता है,
कि चाँद हर रोज़ एक नए रंग में दिखता है ♥♥


Saturday, August 5, 2017

Dosti | Eternal Love


ये जो दोस्ती होती है ना,
इसका कद महोब्बत से बड़ा है,
ये वो ज़ज्बात है,
जिसकी उम्र महोब्बत से ज्यादा है,
जो टूट कर भी जुड़ जाये,
ये वो धागा है,
बहुत कुछ ख़ुदा से मांगने को,
हमने सिर्फ़ एक अच्छा दोस्त माँगा है ♥♥


Shayar | फितूर-ए-इश्क़


शायर होना भी एक ग़ुनाह है,
हमने महोब्बत को नहीं,
महोब्बत ने हमको चुना है ।


Friday, August 4, 2017

Julfen | InFinite LOVE


जब आईने के सामने वो जुल्फ़ें संवारने बैठ गयी,
मेरे सारी ख्वाहिशें उसकी जुल्फ़ों तले लेट गयी ♥♥


Thursday, August 3, 2017

Kalam | Infinite Love


कलम हाथ में लिए वो सुबह को शाम करता है,
कोई है जो आज भी हर एक लम्हें को तेरे नाम करता है ♥♥


Tuesday, August 1, 2017

Chhaanv | Infinite Love


मेरे ख़्यालों से मैंने तुम्हारी एक तस्वीर बुनी है,
मैंने महलों को छोड़कर तुम्हारी जुल्फ़ों की छांव चुनी है,

ये लफ्ज़ और जज़्बात ख़ामोश थे तुम बिन,
तुम्हें देखा तब मैंने अपनी धड़कनो की
पहली बार आवाज़ सुनी है ♥♥