.

Tuesday, August 1, 2017

Chhaanv | Infinite Love


मेरे ख़्यालों से मैंने तुम्हारी एक तस्वीर बुनी है,
मैंने महलों को छोड़कर तुम्हारी जुल्फ़ों की छांव चुनी है,

ये लफ्ज़ और जज़्बात ख़ामोश थे तुम बिन,
तुम्हें देखा तब मैंने अपनी धड़कनो की
पहली बार आवाज़ सुनी है ♥♥


No comments:

Post a Comment