.

Wednesday, September 13, 2017

तुझे इत्र | AE DIL HAI MUSHKIL


तुझे इत्र बनाकर बोतल में बंद कर लूँ,
तेरी यादें जब सताये तो तुझे थोड़ा साँसों में भर लूँ
♥♥


No comments:

Post a Comment