.

Monday, September 18, 2017

Door | Hopeless


पहले सोता था कि तुझसे ख्वाबों में कुछ कह सकूँ,
अब सोता हूँ कि कुछ देर तेरी यादों से दूर रह सकूँ ♥♥


No comments:

Post a Comment