.

Tuesday, September 12, 2017

ये साया | TUM BIN


ये साया जो तुम्हारा नहीं है,
क्यों तुम इससे लिपटकर बैठे हो,

मैं तुमसे मिलना चाहता हूँ,
तुमतुम कब होते हो ।


No comments:

Post a Comment