.

Wednesday, March 28, 2018

बेधड़क | SHAYARi


तुम जो यूँ बारिशों में बेधड़क भीगती हो,
मेरे दिल की ज़मीं को तुम अपनी अदाओं से सिंचती हो ♥♥


No comments:

Post a Comment