.

Tuesday, August 21, 2018

मुकम्मल | Unrequited LOVE


मैं इक रात भी मुकम्मल नहीं जीया,
अधूरे इश्क़ को भी मैंने पूरा किया ♥♥


No comments:

Post a Comment