.

Sunday, September 23, 2018

हिज्र | Unrequited LOVE


एक उम्र की दूरी है,
एक पल में मिटानी है,

जो बातें कहनी थी तुमसे,
वो अब ख़ुद से भी छुपानी है,

इक रात ही काटी है हिज्र में,
अभी एक उम्र बितानी है,

एक लम्हा मोहब्बत का ना मिला,
उनकी मोहब्बत फ़क़त जुबानी है,

मोहब्बत हमेशा जिंदा रहेगी,
बस ये ज़िंदगी फ़ानी है ♥♥


No comments:

Post a Comment