.

Monday, October 15, 2018

तलाश | शायरी


उजालों की तलाश में हूँ,
मगर अँधेरों से मोहब्बत है |


No comments:

Post a Comment