.

Thursday, October 18, 2018

ठहर | हिंदी कविता


तेरे आने से सहर हुई है,
तेरे जाने से रातें ठहर गई है ♥♥


No comments:

Post a Comment