.

Saturday, October 20, 2018

नज़रिया | हिंदी


बयान करने को पूरा दरिया था,
मगर कोई  जरिया ना मिला,
फिर एक दिन हिंदी मिली,
और फिर इक नज़रिया मिला |


No comments:

Post a Comment