.

Tuesday, October 16, 2018

इक आदमी | हिंदी कविता


चेहरे पे उदासी लिए शहर में घूमता रहा,
वो इक आदमी जो खुशियाँ बेचने आया था |


No comments:

Post a Comment