.

Monday, October 22, 2018

मोहब्बत | Sad Shayari


ज़माने में और भी है छाने वाले लेकिन,
क्यों मोहब्बत सुनते ही तेरा ख्याल आता है |


No comments:

Post a Comment