.

Saturday, October 6, 2018

मक़ाम | Unrequited LOVE


मोहब्बत ही मेरा आख़िरी मक़ाम ना हो जाये,
तेरे इंतज़ार में ज़िंदगी की शाम ना हो जाये |


No comments:

Post a Comment