.

Friday, October 12, 2018

तामील | Urdu POETRY


कुछ इस तरह तेरे इश्क़ की तामील की है,
हर सांस के साथ तेरी याद शामिल की है ♥♥


No comments:

Post a Comment