.

Thursday, October 18, 2018

मुसलसल | URDU Shayari


मोहब्बत मुसलसल पीछे पड़ी है,
तेरी यादें छोटी और रातें बड़ी है ♥♥


No comments:

Post a Comment