.

Saturday, November 3, 2018

नाभि | रोमांटिक शायरी


तेरी कमर को छूती लटे तेरे चेहरे को ताक रही थी,
जैसे तेरी नाभि से वो चाँद की दूरी नाप रही थी ♥♥


No comments:

Post a Comment