.

Monday, January 21, 2019

वस्ल | रोमांटिक शायरी


इक उम्र गुज़री है हिज़्र में
अब वस्ल का स्वाद चखना है,
तेरे गाल पे जो तिल है
उसे होंठों से उठाकर
तेरे काँधे पे रखना है ।


No comments:

Post a Comment