.

Sunday, February 10, 2019

तिरे हिज़्र | Adhuri Mohbbat


गुलाब चुभने लगे हैं,
अब काँटों से मुहब्बत की जाय,

वस्ल होता तो आँखों से पीते,
तिरे हिज़्र में मैखानों में पी जाय ।


No comments:

Post a Comment