.

Saturday, February 23, 2019

ज़िंदा | Hindi Poetry


यूँ तो जी रहा हूँ मगर,
गले में यादों का फंदा है,

मैं जिस पे मर गया,
वो मिरे बग़ैर ज़िंदा है ।


2 comments:

If you want to leave comments. First preview your comment before publishing it to avoid any technical problem.