.

Monday, February 11, 2019

वस्ल | Hindi Shayari


तिरे हिज़्र में मर मर के जीये,
वस्ल की रात में घुट इंतिज़ार के पीये ।


No comments:

Post a Comment