.

Thursday, February 21, 2019

खनक | ISHQ Shayari


इक चेहरा ख़्याल से गुजरा
और आँखों को भनक ना हुई,

उसने ख़्वाबों में दस्तक दी
और पायल की खनक ना हुई ।


No comments:

Post a Comment