.

Wednesday, February 13, 2019

तवक़्क़ो | LOVE Shayari


किसी से अब क्या तवक़्क़ो करे कोई,
बेदिलों की बस्ती में दिल की बात कौन सुने ।


No comments:

Post a Comment